CTET CLASS-1

चर्चा व प्रश्नोत्तर हेतु हमें  whatsaap पर सम्पर्क करें: 7007709225, 7007995527
एवं
plz Like & Share our efforts with ur friends
because sharing is caring 
For Demo Classes Contact Us @ 7007709225 
WhatsApp @9044317714
Message @ EyesUnit Facebook Page

भोजन
 -ऐसा कोई भी पदार्थ जो कार्बोहाइड्रेट, वसा, जल तथा प्रोटीन से बना हो और जीव द्वारा ग्रहण किया जा सके, भोजन कहलाता है ।
-जीव न केवल जीवित रहने के लिए बल्कि स्वस्थ और सक्रिय जीवन बिताने के लिए भोजन करते हैं। 
-भोजन में अनेक पोषक तत्व होते हैं जो शरीर का विकास करते हैं, उसे स्वस्थ रखते हैं और शक्ति प्रदान करते हैं।

भोजन में पाए जाने वाले आवश्यक तत्व हैं - 
कार्बोहाइड्रेट, 
प्रोटीन, 
वसा और तेल, 
विटामिन और खनिज

 -भोजन में सभी पोषक तत्व होने चाहिए जैसे की मांसपेशियों और उत्तकों को सबल बनाने के लिए प्रोटीन, ऊर्जा या शक्ति प्रदान करने के लिए कार्बोहाइड्रेट और वसा, मजबूत हडि्डयों और रक्त के विकास के लिए खनिज लवण और स्वस्थ जीवन एवं शारीरिक विकास के लिए विटामिन#eyesunit

 -शरीर में विभिन्न पोषक तत्वों- कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन और खनिज की आवश्यकता मनुष्य की आयु, लिंग, शारीरिक श्रम और शरीर की दशा पर निर्भर करती है। शारीरिक श्रम करने वाले एक मजदूर को दफ्तर में काम करने वाले व्यक्ति की अपेक्षा कहीं अधिक शक्ति प्रदान करने वाले भोजन की आवश्यकता होती है। गर्भवती महिलओं और स्तनपान करने वाले बच्चों की माताओं को शारीरिक परिवर्तनों के कारण अधिक प्रोटीन और खनिजों की आवश्यकता होती है#eyesunit


 -इसलिए यह जरूरी है कि हर व्यक्ति अपनी आयु, लिंग, काम की दशा आदि के अनुसार अपने भोजन में सभी आवश्यक पोषक तत्व शामिल करे। मनुष्य की इन आवश्यकताओं को पूरा करने वाले भोजन को संतुलित भोजन कहते  हैं#eyesunit

 भोजन के प्रकार:-

 शक्तिदायक भोजन 
कार्बोहाइड्रेट तथा वसा युक्त भोजन को शक्तिदायक भोजन कहते हैं। दालें, कन्दमूल, सूखे मेवे, चीनी, तेल और वसा इस वर्ग में आते हैं।

 शरीर-निर्माण करने वाले भोजन
अधिक प्रोटीन वाला भोजन शरीर निर्माण करने वाला भोजन कहलाता है। भारतीय नस्ल की देशी गाय का दुध, घी,दालें, तिलहन, गरी और कम वसा वाले तिलहनों के उत्पाद इस वर्ग में आते हैं। प्रोटीन हमारे शरीर ले लिए अत्यन्त आवश्यक तत्व है। माँस, मछली, अंडे इत्यादि भी प्रोटीन  के अच्छे स्रोत हैं। 

 संरक्षण देने वाले भोजन 
जिस भोजन में प्रोटीन, विटामिन और खनिज अधिक पाये जाते हैं उसे संरक्षण देने वाला भोजन कहते हैं। दूध और दूध के उत्पाद, अंडे, कलेजी, हरी पत्तेदार सब्जियाँ और फल इस वर्ग में आते हैं।

 विशेष:- भोजन को अधिक उबालने या तलने से बहुत से पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। इसलिए इस बात का पूरा ध्यान रखना चाहिए कि खाना सही तरीके से पकाया जाए।

 पोषक तत्वों के कार्य और उनके स्रोत 

 प्रोटीन 
शरीर में उत्तकों, मांसपेशियों और रक्त जैसे महत्वपूर्ण द्रव्यों का निर्माण, संक्रमण का सामना करने के लिए इन्जाइम और रोग प्रतिकारक तत्वों के विकास में सहायता।
स्रोत :- ताजा या सुखाया हुआ दूध, पनीर, दही, तिलहन और गिरी, सोयाबीन, खमीर, दालें, मांस, कलेजी, मछली, अण्डे और अनाज।
बच्चों में प्रोटीन की कमी से मरास्मस (सूखा रोग) और क्वाशिओरकोर हो जाता है।

 वसा 
शक्ति के संकेिन्द्रत स्रोत का काम करना और घुलनशील विटामिनों की पूर्ति करना।
स्रोत : मक्खन, घी, वनस्पति तेल और वसा, तिलहन और गिरी, मछली का तेल और अण्डे की जर्दी।

 कार्बोहाइड्रेट 
शरीर को शक्ति प्रदान करना।
स्रोत : अनाज, बाजरा, कन्दमूल जैसे कि आलू, चुकन्दर, अरवी और चीनी, गुड़।

इसकी कमी से किटोसिस नामक रोग होता है।

 विटामिन

 विटामिन ए :
शरीर की चमड़ी और श्लेष्म झिल्ली को स्वस्थ रखना और रात्रि अन्धता से बचाव।
स्रोत : मछली का तेल, कलेजी, दूध के उत्पाद -दही, मक्खन, घी- गाजर, फल और पत्तेदार सब्जियां#eyesunit

 विटामिन बी 1 (थायामिन)
सामान्य भूख, पाचन शक्ति तथा स्वस्थ स्नायु प्रणाली और भोजन की शर्करा को शक्ति में बदलना।
स्रोत : कलेजी, अण्डे, फलियां, दालें, गिरी, तिलहन, खमीर, अनाज, सेला चावल#eyesunit

 विटामिन बी-2 (रिबोफ्लेविन)
कोशिकाओं को आक्सीजन के उपयोग में सहायता देना, आंखों को स्वस्थ और साफ रखना तथा नाम मुंह के आसपास पपड़ी न जमने देना तथा मुंह के कोरों को फटने से बचाना।
स्रोत : दूध, सपरेटा, दही, पनीर, अण्डे, कलेजी और पत्तेदार सिब्जयां#eyesunit

 नियांसिन
चमड़ी, पेट, अंतिड़यों और स्नायु तंत्र को स्वस्थ रखना।
स्रोत : दालें, साबुत अनाज, मांस, कलेजी, खमीर, तिलहन, गिरी और फलियां#eyesunit

 विटामिन सी :
कोशिकाओं को मजबूत बनाना, रक्त वाहिक की भित्तियों को शक्तिशाली बनाना, संक्रमण की रोकथाम और रोग से जल्दी मुक्ति पाने की शक्ति प्रदान करना।
स्रोत : आंवला, अमरूद, नींबू की जाति के फल, ताजी सिब्जयं और अंकुरित दालें#eyesunit

 विटामिन डी :
शरीर को काफी मात्रा में कैिल्शयम ग्रहण करने और हड्डी मजबूत बनाने में सहायता देता है।
स्रोत : दूध, मक्खन, अंडे की जदीZ, दूध, पनीर, मछली, तेल और घी#eyesunit

अन्य
कैल्शियम और फास्फोरस :
हडि्डयां और दांत बनाने, रक्त बढ़ाने तथा पेशियों के ठीक रूप् से काम करने में सहायक होता है।

स्रोत : दूध और इसके उत्पाद, पत्तेदार सिब्जयां, छोटी मछली और अनाज आदि#eyesunit

 आयरन:
प्रोटीन के साथ मिलकर हीमोग्लोबीन  बनाना।
स्रोत : कलेजी, गुर्दा, अंडे, सिब्जयां, तिलहन-गिरी, फलियां, दालें, गुड़, सूखे मेवे और पत्तेदार सब्जियां#eyesunit




Source:-wikipidia & NCERT books#eyesunit

चर्चा व प्रश्नोत्तर हेतु हमें  whatsaap पर सम्पर्क करें: 7007709225, 7007995527
एवं


CTET CLASS-1 CTET  CLASS-1 Reviewed by Eyes Unit on 15:51:00 Rating: 5

No comments:

Theme images by chuwy. Powered by Blogger.